About Me

My photo
delhi, India
I m a prsn who is positive abt evry aspect of life. There are many thngs I like 2 do, 2 see N 2 experience. I like 2 read,2 write;2 think,2 dream;2 talk, 2 listen. I like to see d sunrise in the mrng, I like 2 see d moonlight at ngt; I like 2 feel the music flowing on my face. I like 2 look at d clouds in the sky with a blank mind, I like 2 do thought exprimnt when I cannot sleep in the middle of the ngt. I like flowers in spring, rain in summer, leaves in autumn, freezy breez in winter. I like 2 be alone. that’s me

Saturday, February 9, 2013

....मुझे याद करोगे ना, इस रिश्‍ते पर नाज करोगे ना


खालीपन है, एकदम खाली...दिल, दिमाग और जिंदगी. इस खालीपन के साथ जिंदगी जीने की हर रोज एक नई कोशिश करती हूं और शाम होते-होते हार जाती हूं. क्‍या तुम भी ऐसी कोशिश कर रहे हो, क्‍या खालीपन तुम्‍हारे जेहन में भी दस्‍तक देता होगा? पता नहीं इतनी दूर हूं ना तुमसे अब....
अब तक तुम्‍हारे साथ थी लेकिन अभी तुम्‍हें जी रही हूं मै...हर दिन, हर घंटे, हर पल...कभी समझने का मौका ही नहीं मिला कि जिंदगी तुम्‍हारे बिना भी जीनी होगी, खुद को बहलाने के लिए हर खुशनुमा पल को याद करती हूं.
 तुम्‍हें याद है एक दिन रात खाने के बाद हम सब बैठे थे, हमारा सबसे अजीज Mr. K भी हमारे साथ ही था. बातों-बातों में उसने पूछा माही तुम्‍हें दोबारा जिंदगी मिली तो तुम्‍हें क्‍या चाहोगी? तुम मेरी ओर देखकर मुस्‍कुराए....यही सवाल उसने तुमसे भी पूछा....तुमने एकदम कॉरपोरेट जगत के किसी बड़े नाम की तरह एक जवाब दिया...अब बारी मेरी थी...Mr. K ने दो बार कहा, बोलो ना माही अल्‍लाहताला ने दोबारा इंसानी जिंदगी दी तो तुम क्‍या जीना चाहोगी.
.....और मै बोली....मै माही ही बनकर आना चाहूंगी, हर वो गलती दोबारा दोहराना चाहूंगी, तुम्‍हें इतना ही प्‍यार करूंगी, तुम्‍हारे साथ जिंदगीभर साथ रहने के लिए इसी तरह अल्‍लाह से लड़ूंगी, तुम्‍हारी हर छोटी-बड़ी बात का ख्‍याल रखूंगी, अपने मां-पापा की खिदमत करूंगी. मै तुमसे इसी तरह टूट कर प्‍यार करूंगी...जिंदगीभर, जिंदगी रहते तक और जिंदगी के बाद भी...इंशाल्‍लाह...ये सुनकर मेरा गला रूंध गया था...तुम दोनों की आंख भी नम थी.... Mr. K उठकर पानी लेने गए....तुम मेरे पास आए और पूछा इतना प्‍यार क्‍यों करती हो मुझसे...शायद तुम्‍हें कुछ नहीं दे पाऊंगा....
तुम्‍हारे ही ख्‍यालों से बात करते हुए उसी जगह आ खड़ी हूं जहां तुमने मुझे आखिरी बार छोड़ा था....न्‍यू फ्रेंड्स कॉलोनी का ये बस स्‍टैंड....तुम नहीं हो लेकिन मेरा दिल पूछना चाहता है तुमसे ''....मुझे याद करोगे ना, इस रिश्‍ते पर नाज करोगे ना?


रंजिश ही सही, दिल ही दुखाने के लिए आ
आ फिर से मुझे छोड़ के जाने के लिए आ.......अहमद फ़राज़

20 comments:

  1. बेपनाह मोहब्बत करने वालों को इस कायनात में पनाह नहीं मिलती शायद .....।

    ReplyDelete
    Replies
    1. bilkul sahi keh rahe hain Amit Ji

      Delete
    2. bilkul sahi keh rahe hain Amit Ji

      Delete
  2. वाह...सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  3. रहे न रहे हम.. महका करेंगे बनके कली.....

    ReplyDelete
  4. माही....................
    लगता है हमें तुमसे मिलना पड़ेगा :-(

    अनु

    ReplyDelete
  5. dil ko chhu gye ye khyal..
    bhawpurn prastuti.

    ReplyDelete
  6. कम शब्दों में बहुत कुछ कह गई आपकी रचना........

    ReplyDelete
  7. you must know that some things cant be written cant be told... that only can be felt...and this is the summary of your stories.No body can write on paper but you tried... bahut khub

    ReplyDelete
  8. You must know, love cant be written, cant be told and even cant be expressed...exactly how much you do with your beloved...that can be felt only...exactly same you do with your beloved... but you tried very well...really dilse appreciable...true love is never got success... ya to ye society ...ya apke pariwar wale... aur sab kuch thik thak hai to apka partner aapko dhoka dega...thats 99.99% fact...because exceptions are every where is 100% correct.

    ReplyDelete
  9. mahi main aapse bat karna chahti hun kya aap Fb par hain

    ReplyDelete
    Replies
    1. Hi ritu

      write me @ shrqahmad10@gmail.com

      Delete
  10. u own an amazing blog and a royal heart...dnt live just coz u were meant to...live lyf a million more tyms before u die...

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thnx....and welcome to my small world...

      Delete
  11. Ranjishein hi sahi..dil hi dukhane ke liye aa

    These words :) These words :)

    Keep writing! Glad to find a blog written in Hindi

    ReplyDelete
  12. मैं वही रहना चाहूंगी, जो मैं हूँ... हर वो गलती दोबारा दुहराना चाहूंगी...

    कितना सहज, सुन्दर, भोला सा उत्तर!
    Such expressions just leave eyes moistened and soul touched!

    ReplyDelete
  13. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete